PM KUSUM Yojana: प्रधानमंत्री कुसुम योजना, ऑनलाइन आवेदन, लाभ, जरुरी दस्तावेज की पूरी जानकारी।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना (PM-KUSUM): प्रधानमंत्री कुसुम योजना (Pm Kusum Yojana) का उद्देश्य भारत में किसानों के लिए ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित करना है, साथ ही 2030 तक गैर-जीवाश्म-ईंधन स्रोतों से विद्युत ऊर्जा की स्थापित क्षमता को 40% तक बढ़ाने की भारत की प्रतिबद्धता के साथ-साथ राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित अंशदानों (INDCs) के हिस्से के रूप में।

तो दोस्तों अगर आप भी PM-KUSUM Schemes के बारे में जानना चाहते है तो इस ब्लॉग को ध्यान से पूरा पढ़िए। क्योंकि इस ब्लॉग में हम आपको प्रधानमंत्री कुसुम योजना से जुड़ी सारी जानकारी देंगे:-

PM KUSUM Yojana 2021

PM KUSUM Yojana

नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) ने देश में सौर पंप और ग्रिड से जुड़े सौर और अन्य नवीकरणीय ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना के लिए किसानों के लिए प्रधानमंत्री किसान सुरक्षा अभियान महाभियान (PM KUSUM Yojana) योजना शुरू की है।

इस योजना का लक्ष्य 2022 तक सौर और अन्य नवीकरणीय क्षमता को 25,750 मेगावाट की कुल केंद्रीय वित्तीय सहायता के साथ जोड़ना है। कार्यान्वयन एजेंसियों को सेवा शुल्क सहित 34,422 करोड़।

PM KUSUM Yojana के कॉम्पोनेंट्स


कुसुम योजना के चार कॉम्पोनेंट है जो कि कुछ इस प्रकार हैं।

सौर पंप वितरण: कुसुम योजना के प्रथम चरण के दौरान केंद्र सरकार के विभागों के साथ मिलकर बिजली विभाग, सौर ऊर्जा संचालित पंप के सफल वितरण करेगी।
सौर ऊर्जा कारखाने का निर्माण: सौर ऊर्जा कारखानों का निर्माण किया जाएगा जोकि पर्याप्त मात्रा में बिजली का उत्पादन करने की क्षमता रखते हैं।
ट्यूबवेल की स्थापना: सरकार द्वारा ट्यूबवेल की स्थापना की जाएगी जो कि कुछ निश्चित मात्रा में बिजली उत्पादन करेंगे।
वर्तमान पंपों का आधुनिकरण: वर्तमान पंपों का आधुनिकरण भी किया जाएगा कथा पुराने पंपों को नए सौर पंपो से बदला जाएगा।

कुसुम योजना के पहले ड्राफ्ट के अंतर्गत यह प्लांट्स बांझ क्षेत्रों में लगाए जाएंगे जोकि 28000 मेगावाट बिजली उत्पादन में सक्षम है। प्रथम चरण में सरकार द्वारा 17.5 लाख सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप किसानों को उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके अलावा बैंक किसानों को लोन के रूप में कुल खर्च का 30% अतिरिक्त प्रदान करेगी। किसानों को केवल अग्रिम लागत ही खर्च करनी होगी।

KUSUM Yojana के फायदे

PM KUSUM Yojana ग्रामीण भूमि मालिकों को उनकी सूखी / गैर-उपयोगी भूमि का उपयोग करके 25 वर्षों की अवधि के लिए आय का एक स्थिर और निरंतर स्रोत खोलेगी। इसके अलावा, अगर सौर ऊर्जा परियोजना स्थापित करने के लिए खेती वाले खेतों को चुना जाता है, तो किसान फसलों को उगाना जारी रख सकते हैं क्योंकि सौर पैनलों को न्यूनतम ऊंचाई से ऊपर स्थापित किया जाना है।

यह योजना सुनिश्चित करेगी कि ग्रामीण लोड केंद्रों और कृषि पंप-सेट लोड को खिलाने के लिए पर्याप्त स्थानीय सौर / अन्य नवीकरणीय ऊर्जा आधारित बिजली उपलब्ध हो, जिसके लिए दिन के समय बिजली की आवश्यकता होती है। चूंकि ये बिजली संयंत्र कृषि भार या विकेन्द्रीकृत तरीके से विद्युत सबस्टेशनों के करीब स्थित होंगे, इसके परिणामस्वरूप एसटीयू और डिस्कॉम के लिए ट्रांसमिशन में कमी आएगी। इसके अलावा, यह योजना RPO लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए डिस्कॉम को भी मदद करेगी

सौर पंप डीजल पंप चलाने के लिए डीजल पर किए गए खर्च को बचाएंगे और किसानों को सौर पंप चलाने से होने वाले हानिकारक प्रदूषण को रोकने के अलावा सौर पंप के माध्यम से सिंचाई का एक विश्वसनीय स्रोत प्रदान करेंगे। इलेक्ट्रिक ग्रिड कनेक्शन के लिए लंबी प्रतीक्षा सूची के प्रकाश में, इस योजना से ग्रिड लोड को जोड़ने के बिना, चार वर्षों की अवधि में 17.5 लाख किसानों को लाभ होगा।

PM KUSUM Yojana के बारे में और अधिक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Comment